शरीर में होने वाले ये बदलाव हो सकते हैं किडनी से जुड़े रोग के संकेत,ना करें इग्नोर

इनदिनों अधिकांश लोगों में खराब लाइफस्टाइल और अस्त व्यस्त भाग्दौर भड़ी जिन्दगी की वजह से किडनी से जुड़ी बीमारियों का एक तरह से ट्रेंड चल गया है. आजकल हर दूसरा शख्स किडनी की बीमारी से परेशान है, आज इस पोस्ट के जरिये हम आपको बताने जा रहे हैं की कैसे आप वक़्त रहते ही किडनी की बीमारी को दूर कर सकते हैं और इसे पहचान सकते हैं. आप अपने शरीर में होने वाली कुछ बदलावों के बारे में जानकर किडनी से जुड़ी बीमारियों का रोकथाम समय से पहले ही कर सकते हैं. तो आईये आपको बताते हैं की आपके शारीर में होने वाले कौन से बदलाव आपको किडनी से जुड़ी बीमारी का संकेत देते हैं.

सबसे पहले आपके लिए ये जानना बहुत ही आवश्यक है की आखिर किडनी का हमारे शारीर में काम क्या है. आपको बता दें की किडनी असल में हमारे शारीर से विषाक्त पदार्थों को दूर करने और यूरीन को साफ़ करने का काम करता है. अब आप खुद इस बात का अंदाजा लगा सकते हैं की जब आपकी किडनी ही काम करना बंद कर देगी तो जाहिर है की शारीर के सारे विषाक्त पदार्थ और टोक्सिन बॉडी में यूँ ही पड़ा रखेगा जो की हमारे शारीर को धीरे धीरे नुकसान पहुंचाता है और अंत में इंसान की मृत्यु हो जाती है. बता दें की रोजाना एक ह्यूमन बॉडी से टोक्सिन का बाहर निकलना काफी महत्वपूर्ण माना जाता है और इसके पीछे वजह यही है. आजकल लोगों की जीवनशैली ऐसी हो गयी है की लोग अमूमन रोज ही बाहर का खाना और जंक फ़ूड आदि का सेवन करते हैं जिससे किडनी के ऊपर भी काफी बुरा असर पड़ता है. इसके आलावा आपको बता दें की किडनी से जुड़ी रोगों के रोकथाम के लिए एक हेल्दी लाइफ जीना सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण माना जाता है. लेटेस्ट रिसर्च रिपोर्ट की माने तो आपके अंदर जितनी हेल्दी और आर्गेनिक चीजें जायेंगी आपका किडनी उतनी ही अच्छी तरह से फंक्शन करेगा.

अब बात करते हैं किडनी से जुड़े रोग के होने वाले शुरुवाती लक्षण के तो आपको बता दें की असल में किसी भी किडनी से जुड़े रोग की शुरुवात तभी हो जाती है जब किसी व्यक्ति का सुगर लेवल काफी हाई हो जाता है और वो डायबिटीज का मरीज बन जाता है. आपको बता दें की अमेरिका सहित इंडिया में भी आज 30 से 40 प्रतिशत लोगों में किडनी से जुड़ी बीमारियों का पहला कारन डायबिटीज ही है. बता दें की यदि कोई अपने बढे हुए सुगर लेवल को वक़्त रहते कण्ट्रोल ना करें तो कुछ दिनों के बाद डायबिटीज का सीधा प्रहार किडनी पर ही होता है. इसके आलवा आपको बता दें की किडनी फेलियर का एक कारण हाई ब्लड प्रेशर और ज्यादातर हर चीज में दवाइयों का सेवन भी बनता है. गौरतलब है की डायबिटीज से पीड़ित अधिकाँश मरीजों को शुरुवाती दौर में किडनी से जुड़ी परेशनियों के बारे में मालूम नहीं चल पाता है. बता दें की अधिकाँश मरीजों का किडनी 50 परसेंट डैमेज होने के बाद ही उन्हें किडनी से जुड़ी बीमारी का पता चल पाता है. इसलिए किडनी की बीमारी से बचने के लिए हमेशा अपने सुगर लेवल और हाई ब्लड प्रेशर का ख्याल रखें और वक़्त रहते ही इसे दूर कर लें.

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *