रोजाना मंदिर जाने वाले लोगों को मिलते हैं ये फायदे, जरूर जान लें

वैसे तो ईश्वर की शरण में हर इंसान कभी ना कभी जरूर जाता है लेकिन अमूमन लोग मंदिर तभी जाते हैं जब उनके जीवन में कोई दुःख आता है या फिर जब उनके जीवन में कोई बहुत बड़ी ख़ुशी आती है. आजकल रोजाना मंदिर जाने वाले लोग बहुत ही कम हैं, इएक पीछे वजह है की एक तो लोगों के पास आजकल अपनी जिंदगी के भाग दौर से फुर्सत नहीं मिलती और दूसरा नए युवा पीढ़ी की भगवान् के प्रति श्रद्धा में भी कमी आगयी है. आज हम अपकोईस पोस्ट के जरिये रोजाना मंदिर जाने के फायदों के बारे में बताने जा रहे हैं जिसके बाद आप भी रोज मंदिर जरूर जाएंगे. तो आईये आपको बताते हैं की आखिर रोजाना मंदिर जाने के के फायदे हैं.

सबसे पहले आपको बता दें की रोजाना यदि आप मंदिर जाते हैं तो इससे आपके ब्लड प्रेशर की समस्या हमेशा के लिए ख़त्म हो जाती है. अब आप सोच रहे होंगें की भला या कैसे संभव है तो आपको बता दें की जब आप मंदिर में जाकर नागे पाँव परिक्रमा करते हैं तो इससे आपके पैरों पे दवाब पड़ता है जिससे आपको हाई ब्लड प्रेशर की समस्या से निजात मिलता है. इसके आलवा आपको बता दें की मंदिर यदि रोजाना आप जाते हैं तो भगवान् की भक्ति से मन एकाग्र होता है और आपकी सभी चिंताएं और स्ट्रेस दूर होती है. कहने का मतलब ये हैं की रोजाना मंदिर जाना आपको मन की शांति देता है. आपको जानकर भले ही हैरानी हो लेकिन रोज मंदिर जाने से वहां बजने वाले घंटी की आवाज इतनी प्रबल होती है की अजब आप उसे सुनते हैं तो उससे आपका एनर्जी लेवल काफी हाई होता है और शारीर के एकाग्रता में भी वृद्धि होती है. इसके आलवा मंदिर जाने से इम्मुन सिस्टम भी काफी स्टोंग होता है, जब मंदिर में भजन के दौरान आप ताली बजाते हैं तो इससे आपके शारीर के कुछ तंत्र जागृत होते हैं जो की इम्युनिटी को बढाने का काम करते हैं.

आपको बता दें की रोजाना मंदिर जाने से आपके लंग्स भी साफ़ रहते हैं. बता दें की मंदिर में हवन के दौरान होने वाली आरती से पूरा वातावरण शुद्ध होता है जिस्सेकी आसपास के हवा में मौजूद बक्टेरिया का भी नाश होता है. इसलिए यदि आप रोजाना मंदिर जाएँ तो इससे धीरे धीरे आपके लंग्स भी साफ़ होते हैं और आपको किसी प्रकार का कोई इन्फेक्शन भी नहीं होता है. इसके अलावा मंदिर जाने से माथे पर लगाये जाने वाले तिलक का भी विशेष लाभ है, बता दें की मंदिर जाने के बाद जो तिलक लगाया जाता है उससे मस्तिष्क आर काफी गहरा प्रभाव पड़ता है और दिमाग को शांति मिलती है. तिलक लगाना एक प्रकार अक्यूप्रेशर की तरह काम करता है जो आपकी तंत्रिका तंत्र को जागृत करता है जिससे शारीर के साथ साथ मस्तिष्क के भी सभी तार खुल जाते हैं. इसलिए यदि आप भी उनमे से हैं जो केवल अवसर मिलने पड़ ही भगवान् के दर्शन के लिए मंदिर जाते हैं तो अब से रोजाना मंदिर जरूर जायें और इसका लाभ उठाएं.

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *